Which symptoms indicate that you need to consult a gastroenterologist?

gastroenterology

Which symptoms indicate that you need to consult a gastroenterologist?

  • September 14, 2021

  • 712 Views

In this blog post, we are going to mention all those signs and the symptoms, encountering which you should not think twice about visiting the liver hospital in Punjab. The following information is going to be super-informative as it is presented by the famous Gastro doctor of Ludhiana.

Who is a gastroenterologist?

First of all, I would like to bust a myth over here according to which the gastrointestinal system only involves the stomach and the intestines. But the gastroenterology system is that system that involves the following:

  • Oesophagus

  • Stomach

  • Small Intestine

  • Colon

  • Rectum

  • Bile ducts

  • Pancreas

  • Gallbladder

Which symptoms indicate that a visit to a gastroenterologist is required?

Following symptoms should be treated as a “Red Alert Sign” as these should not be ignored at any cost:

  • Atypical Bowel Movements

  • Constipation:

The ideal bowel activity includes more than 3 bowel movements per week. If it is fewer than that, that one of the following issues could be held responsible:

    • Blockage

    • Neurological Issues

    • Dietary factors

    • Hormonal Imbalance

    • Muscular Malfunctioning

  • Diarrhoea

If you are perpetually facing the problem of runny stool, then it may be because of any of the following causes:

    • Viral Infection

    • Bacterial Infection

    • Lactose Intolerance

  • Rectal Bleeding

If you are having blood in your stool, then it could be because of many reasons. The most common among them are:

  • Anal Fissure

  • Haemorrhoids

  • Frequent Heartburn

If heartburn is emerging as a usual phenomenon that is not normal and serious actions need to be taken against it. The constant heartburn indicates that you are down with GERD (Gastroesophageal Reflux Diseases)

  • If your age is more than 50 years

If you are more than 50 years of age, then you must consider undergoing a screening test as this age is quite common to suffer from Colorectal Cancer.

  • Pain in Abdomen

If after having each meal you suffer from intense pain in the abdomen, then it is not something that you can take as normal.

  • Difficulty in Swallowing

Certain elements make you unable to swallow things properly. Those conditions are never to be ignored and an immediate appointment with the reputed gastroenterologist should be made.

What does a Gastroenterologist expert in treating?

The most common conditions which are managed by the gastroenterologist are as follow:

  • Cancer of the following

  • Gastrointestinal

  • Liver

  • Pancreas

  • Colorectal

  • IBS (Irritable Bowel Syndrome)

  • IBD (Inflammatory Bowel Diseases)

  • Gallbladder Diseases

  • GERD

  • Polyps & Hemorrhoids

  • Ulcers

  • Pancreatitis

Final Comments!

If any of the above-mentioned symptoms are bothering you, then you should not think even twice to visit the gastroenterologist. These symptoms need the immediate attention of a specialised doctor. The aggravation of these may come up in the form of problematic complications.

If you were looking for the piece of the information that was not there in the blog then please make a mention to us. We shall try to include that in our forthcoming blogs.

gastroenterology

क्या बिना लिवर ट्रांसप्लांट के मरीज़ ठीक हो सकता है ? कोनसी ट्रीटमेंट सबसे बेहतर है ?

  • August 30, 2021

  • 805 Views

लिवर की समस्या बहुत ही लोगो में देखी जा सकती है | ऐसा संभव है यदि लिवर की समस्या बहुत ही अधिक बढ़ चुकी है तो डॉक्टर आपको लिवर ट्रांसप्लांट करवाने को कह सकते है | इस स्थिति में आपको सबसे बेहतरीन Liver Hospital in Punjab में जाकर अपना इलाज करवाना होगा | पर क्या आप यह जानते है की लिवर ट्रांसप्लांट करवाए बिना भी आपकी स्थिति में सुधार आ सकता है | यदि आप लिवर की समस्या से झूझ रहे हैं तो आपको हमारे Gastro doctor in Ludhiana से परामर्श करके अपनी स्थिति को सही करना चाहिए |

प्लाज्मा फेरेसिस (Plasmapheresis) तकनीक से ठीक हुए मरीज़

  • हमारे हस्पताल में मानव कुमार चंडीगढ़ से इलाज के लिए आए थे | उस समय उनका बिलरुबिन लेवल 30 से ऊपर जा चूका था | उस समय मानव की स्थिति बहुत ही गंभीर थी और लिवर ट्रांसप्लांट उस समय बेहतर समझा जाता है | पर हमारे डॉक्टर ने प्लाज्मा फेरेसिस करना का सुझाव बेहतर समझा | और यह देखा गया की मानव की स्थिति में बहुत तेज़ी से सुधर आया, क्यूंकि वह खुद से चलफिर रहे थे |

  • यह सिर्फ एक ही ऐसा केस नहीं है जहाँ पर हमारे डॉक्टर ने अपने कौशल (skills) का प्रदशन किआ हो | श्वेता जैन को की दिल्ली से इलाज के लिए आई थी और उनका बिलरुबिन लेवल नार्मल से बहुत ही ज़्यादा था | इसके इलावा उनको प्राथमिक पित्तवाहिनीशोथ (Primary biliary cholangitis) और हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) की समस्या थी |

जैसे की उनका लेवल बहुत ही तेज़ी से बढ़ रहा था तो उनको वेंटीलेटर पे रखना था | इस स्थिति में डॉक्टर ने उनको प्लाज्मा फेरेसिस करीबन 5 बार दिया | उसके बाद ही उनकी स्थिति पहले से बहुत ही ज़्यादा बेहतर हो गई और अब उनको 3 साल हो चुके है और वह अपनी दिनचर्या को बहुत अच्छे से संभाल लेती हैं |

यह तो अभी सिर्फ कुछ नाम है. ऐसे बहुत सरे मरीज़ हैं जिनको इस तकनीक के द्वारा अपनी स्थिति में बहुत ही ज़्यादा सुधार महसूस हुआ है | इस टट्रीटमेंट को करवाने के लिए लगभग 40 से 50 हजार रुपए का खर्च आ सकता है |

सिरोसिस के मरीजों में

सिरोसिस से झूझ रहे मरीज़ों को बहुत ही फ़ायदा हुआ है क्यूंकि इन मरीज़ों को कुछ समय के बाद लिवर ट्रांसप्लांट की ज़रुरत पड़ती है | जो की इस तकनीक के द्वारा नहीं पड़ती क्यूंकि मरीज़ बहुत ही बेहतर महसूस करता है | यह कहना सही होगा की ट्रीटमेंट के ज़रिये कई केसेस को सिर्फ लिवर ट्रांसप्लांट से ही सही हो सकते थे उनको प्लाज्मा फेरेसिस से बहुत ही माभ हुआ है |

प्लाजा फेरेसिस

लिवर में अगर कोई दिक्कत हो तो पीलिया हो जाता है | जिसकी वजह से ब्लड पर असर पड़ने लग जाता है और इस स्थिति में ब्लड से प्लाज्मा निकालना बहुत ही ज़रूरी होता है | इस ट्रीटमेंट के लिए एक मशीन का इस्तेमाल होता है जिसमे ब्लड जाता है और प्लाज्मा को छान लिया जाता है | ब्लड को फिर से चढ़ा दिया जाता है और उसके साथ ही दूसरे मरीज़ के प्लाज्मा भी चढ़ा देते हैं | एक मरीज़ को लगभग 14 से 15 यूनिट प्लाज्मा की ज़रुरत पड़ती है |

डॉक्टर से परामर्श करें यदि आपकी आँख में पीलापन, पेट में सूजन, या आपको भूख नहीं लग रहे है तो आप डॉक्टर से अपनी जांच करवाएं ताकि ट्रीटमेंट सही समय पर शुरू हो सके |